बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज (BofA) के अनुसार, ‘जियो के द्वारा 700 मेगा हर्टज को खरीदाना 5G की रेस में कंपनी को बहुत मजबूत कर दिया है।’ BofA ने 2820 रुपये के टागरेट प्राइस के साथ ‘बाय’ रेटिंग दी है।

5G के स्पेक्ट्रम की नीलामी को लेकर रिलायंस जियो (Reliance Jio) सबसे ज्यादा पैसा खर्च करने वाली कंपनी बनकर उभरी है। कंपनी ने इस नीलामी में 88,078 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। जिसका फायदा यह हुआ की कंपनी का कब्जा लगभग आधे Airwaves पर हो गया है। ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा है कि क्या रिलायंस के शेयरों इस कदम का असर आने वाले समय में दिखेगा? क्या इस समय रिलायंस के शेयरों पर दांव लगाना सही रहेगा? आइए जानते हैं क्या कुछ कह रहे हैं एक्सपर्ट

 

2820 रुपये तक जाएगा रिलायंस के शेयर का भाव! 

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज (BofA) के अनुसार, ‘जियो के द्वारा 700 मेगा हर्टज को खरीदाना 5G की रेस में कंपनी को बहुत मजबूत कर दिया है।’ BofA के अनुसार 5G को लेकर बड़ी संख्या में हैंडसेट्स, इक्विपमेंट्स और एप्लिकेशन की डिमांड आने वाली है। ऐसे में कंपनी इन मांगों को पूरा करने के लिए अपने प्रतिद्वंदियों की अपेक्षा ज्यादा बेहतर पोजीशन में है। BofA ने रिलायंस के शेयर को 2820 रुपये के टागरेट प्राइस के साथ बाय रेटिंग दी है।

क्या बोली कंपनी? 

रिलायंस जियो इन्फोकॉम के चेयरमैन आकाश एम अंबानी ने बयान में कहा, “जियो विश्वस्तरीय और किफायती 5जी सेवाएं देने के लिए प्रतिबद्ध है। हम ऐसी सेवाएं, मंच और समाधान प्रदान करेंगे जो  विशेष रूप से शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, कृषि, विनिर्माण और ई-संचालन जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में भारत की डिजिटल क्रांति को गति देंगे।”  उन्होंने कहा, ”हम पूरे भारत में 5जी के क्रियान्वयन के साथ आजादी का अमृत महोत्सव मनाएंगे…।”

कंपनी ने कहा, ”वह देशभर में फाइबर की उपलब्धता, आईपी नेटवर्क, स्वदेशी 5जी स्टैक और मजबूत वैश्विक भागीदारी के साथ कम- से- समय में 5जी सेवाएं शुरू करने के लिये पूरी तरह से तैयार है।” रिलायंस जियो ने स्पेक्ट्रम नीलामी के बारे में कहा कि उसने 700 मेगाहर्ट्ज, 800 मेगाहर्ट्ज, 1800 मेगाहर्ट्ज, 3300 मेगाहर्ट्ज और 26 गीगाहर्ट्ज बैंड में स्पेक्ट्रम हासिल किये हैं। इससे अत्याधुनिक 5जी नेटवर्क तैयार होगा।” कंपनी ने कहा, ”इस स्पेक्ट्रम के उपयोग के अधिकार के साथ कंपनी दुनिया का सबसे उन्नत 5जी नेटवर्क बनाने में सक्षम होगी और वायरलेस ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी में भारत के वैश्विक नेतृत्व को और मजबूत करेगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Live Updates COVID-19 CASES